देश भर में उत्साह, अयोध्या में भूमि पूजन की भव्य तैयारी

राम की नगरी अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन की तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन करेंगे, जिसके बाद राम मंदिर का निर्माण कार्य तेज़ी से प्रारंभ होगा. अयोध्या के चप्पे-चप्पे को सजा दिया गया है, सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं और साथ ही कोरोना संकट के कारण नियमों का ख्याल भी रखा जा रहा है. भूमि पूजन कार्यक्रम के दौरान कल बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी राम मंदिर की नींव रखेंगे. इसी बीच अयोध्या में एसपीजी ने सुरक्षा संभाल ली है. अयोध्या की सीमा सील कर दी गई है. 5 अगस्त तक बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है.



राम मंदिर के भूमिपूजन में देशभर से 2000 पवित्र स्थान से मिट्टी और जल अयोध्या पहुंचा है. 100 से अधिक नदियों का जल अयोध्या लाया गया है. अयोध्या में भूमि पूजन के दौरान 9 शिला के पत्थर भूमि पूजन में रखे जाएंगे. 9 शिलाओं का पूजन पीएम मोदी के हाथों होगा.



भूमिपूजन कार्यक्रम के दौरान मंच पर सिर्फ पांच लोग ही होंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास मंच पर रहेंगे.



भूमि पूजन में शामिल होने के लिए मेहमानों का आना शुरू हो गया है. संघ प्रमुख मोहन भागवत भी लखनऊ पहुंच गए हैं, यहां से ही वो अयोध्या के लिए रवाना होंगे. गुजरात के सात संतों को भूमि पूजन का न्योता मिला है. भूमि पूजन से पहले आज अयोध्या में विशेष पूजा की जा रही है. हनुमान गढ़ी में पूजा हो रही है, साथ ही शंखनाद कर दिया गया है.



श्रीराम मंदिर के ट्रस्ट की ओर कुल 175 लोगों को भूमि पूजन के लिए निमंत्रण भेजा गया है, इनमें करीब 135 संत शामिल हैं जो देश के अलग-अलग हिस्सों से आएंगे. हर निमंत्रण कार्ड पर एक कोड है, जो सुरक्षा के चलते तैयार किया गया है.

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© 2023 by TheHours. Proudly created with Wix.com