प्रियंका ने कहा- जय सियाराम, भूमिपूजन बने राष्ट्रीय एकता का अवसर



अयोध्या में राम मंदिर भूमिपूजन के एक दिन पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की ओर से बयान जारी किया गया है. प्रियंका ने ट्वीट कर अपना बयान जारी किया, उन्होंने कहा कि भूमिपूजन का कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का अवसर बने. उन्होंने कहा कि भगवान राम सबमें हैं और सबके हैं. ऐसे में पांच अगस्त को अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए होने जा रहा भूमि पूजन राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का कार्यक्रम बनना चाहिए.

प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने ट्वीट में लिखा कि सरलता, साहस, संयम, त्याग, वचनवद्धता, दीनबंधु राम नाम का सार है. भगवान राम और माता सीता के संदेश और उनकी कृपा के साथ रामलला के मंदिर के भूमिपूजन का कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता का अवसर बने. सरलता, साहस, संयम, त्याग, वचनवद्धता, दीनबंधु राम नाम का सार है. राम सबमें हैं, राम सबके साथ हैं. भगवान राम और माता सीता के संदेश और उनकी कृपा के साथ रामलला के मंदिर के भूमिपूजन का कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का अवसर बने।



प्रियंका ने कहा, 'दुनिया और भारतीय उपमहाद्वीप की संस्कृति में रामायण की गहरी और अमिट छाप है। राम शबरी के हैं, सुग्रीव के भी हैं। कबीर के हैं, तुलसीदास के हैं, रैदास के भी हैं. गांधी के रघुपति राघव राजा राम सबको सन्मति देने वाले हैं। वारिस अली शाह कहते हैं- जो रब है, वही राम है.' उन्होंने भगवान राम के लिए मैथिलीशरण गुप्त और महाप्राण निराला की पंक्तियों का भी जिक्र किया.

प्रियंका ने कहा, 'राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त राम को 'निर्बल का बल कहते हैं. तो महाप्राण निराला 'वह एक और मन रहा राम का जो न चीका की कालजयी पंक्तियों से भगवान राम को शक्ति की मौलिक कल्पना कहते हैं. राम साहस हैं, राम संगम हैं, राम संयम हैं, राम सहयोगी हैं. राम सबके हैं. भगवान राम सबका कल्याण चाहते हैं. इसीलिए वे मर्यादा पुरुषोत्तम हैं.'

बयान के आखिरी में प्रियंका ने कहा, 'आगामी 5 अगस्त, 2020 को रामलला के मंदिर के भूमिपूजन का कार्यक्रम रखा गया है. भगवान राम की कृपा से यह कार्यक्रम उनके संदेश को प्रसारित करने वाला राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का कार्यक्रम बने. जय सियाराम.'



Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© 2023 by TheHours. Proudly created with Wix.com